प्रेरक कहानी समोसे वाले की:मन्दी आयी नहीं थी,गलत फैसलों ने चौपट किया व्यापार

जीवन में सफलता हांसिल करने के लिए लोग कई तरह के प्रयोगों से गुजरते हैं.व्यसाय छोटा हो या बड़ा उसमें सत्यनिष्ठा और ईमानदारी होना जरूरी होता है.किसी व्यक्ति के सफलता और विफलता के पीछे कुछ न कुछ राज छुपा होता है.जो बाद में एक प्रेरक कहानी या प्रेरक प्रसंग बन जाता है.

जरूरी नहीं कि शिक्षित व्यक्ति सही फैसला करे।

एक आदमी सड़क के किनारे समोसे बेचा करता था अनपढ़ होने की वजह से वह अखबार नहीं पड़ता था .ऊँचा सुनने की वजह से रेडियो नहीं सुनता था, और आँखें कमजोर होने की वजह से उसने कभी T.V. भी नहीं देखा था .इसके बावजूद वह काफी समोसे बेच देता था .उसकी बिक्री और नफे में लगातार बढ़ोतरी होती गई .उसने और ज्यादा आलू खरीदना शुरू कर दिया ,साथ ही पहले वाले चूल्हे से बड़ा और बढ़िया चूल्हा खरीद कर ले आया. उसका व्यापार लगातार बढ़ रहा था .तभी हाल ही में कालेज से स्नातक की डिग्री हासिल कर चुका उसका बेटा पिता का हाथ बढ़ाने के लिए चला आया.

प्रेरक कहानी समोसे वाले की-

प्रेरक कहानी

उसके बाद एक अजीबो गरीब घटना घटी .बेटे ने उस आदमी से पूछा “पिता जी क्या आपको मालूम है कि हमलोग एक बड़ी मंदी का शिकार बनने वाले हैं. पिता ने जबाब दिया “नहीं” लेकिन मुझे उसके बारे में बताओ”बेटे ने कहा “अंतराष्ट्रीय परिस्थितियां बढ़ी गम्भीर हैं.घरेलू हालात तो और भी बुरे हैं.हमें आने वाले बुरे हालात का सामना करने के लिए तैयार हो जाना चाहिए.

उस आदमी ने सोचा कि उसका बेटा कालेज जा चुका है,अखबार पढ़ता है और रेडियो सुनता है,टीवी देखता है,इसलिए उसकी राय को हल्के ढंग से नहीं लेना चाहिए. दूसरे दिन से उसने आलू की खरीद कम कर दी और उसका साइन बोर्ड नीचे उतार दिया .उसका जोश खत्म हो चुका था .जल्दी ही उसकी दुकान पर आने वालों की तादाद घटने लगी और उसकी बिक्री तेजी से गिरने लगी. पिता ने अपने बेटे से कहा -“तुम सही कह रहे थे, हम लोग मंदी के दौर से गुजर रहे हैं. मुझे खुशी है कि तुमने वक्त से पहले ही सचेत कर दिया .इस प्रेरक कहानी से हमको ये सीख मिलती है कि-

एक इंसान बुद्धिमान होने के बाद भी गलत फैसला कर सकता है .

अपने सलाहकार सावधानी से चुनिए

लेकिन अमल अपने ही फैसले पर करें.

ये भी पढ़े——मन्त्रों के जाप से नहीं, यंत्रों से बनेगा भारत विश्व गुरु

ये प्रेरक प्रसंग प्रसिद्ध लेखक शिव खेड़ा की किताब “जीत आपकी” से उद्धरित किया गया है.

Iphuman

Sochbadlonow

I am I.P.Human My education is m.sc.physics and PGDJMC I am from Uttarakhand. I am a small blogger

2 thoughts on “प्रेरक कहानी समोसे वाले की:मन्दी आयी नहीं थी,गलत फैसलों ने चौपट किया व्यापार

  • 27 June 2020 at 8:34 pm
    Permalink

    good motivational story.

    Reply
  • 4 July 2020 at 7:40 am
    Permalink

    very motivational article I like much

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.